स्वच्छता ही सेवा रिपोर्ट (25.09.2018 से 27.09.2018)

भा.कृ.अनु.प.-केन्द्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान, रहमानखेड़ा, लखनऊ के वैज्ञानिकों और तकनीकी अधिकारियों और कर्मचारियों ने स्वच्छता सेवा अभियान में सक्रिय रूप से भाग लिया। दिनांक 25.09.2018 को, संस्थान परिसर में स्वच्छता के लिए दो क्षेत्रों को चिन्हित किया गया और उस क्षेत्र को साफ किया गया। संस्थान की सीमा दीवार के चारों ओर एक सौ मीटर क्षेत्र को साफ किया गया। इसके अलावा डॉ० नीलिमा गर्ग के नेतृत्व में पीएचएम विभाग के पीछे का क्षेत्र साफ किया गया। प्रधान वैज्ञानिक डॉ० ए. के. सिंह के नेतृत्व में वैज्ञानिकों की एक टीम ने , कनार, महमूदनगर और नईबस्ती का भमण किया और वहाँ के लोगों को स्वच्छता सेवा मिशन के बारे में जागरूक किया ताकि उन क्षेत्रों को साफ किया जा सके। इस स्वच्छता मिशन में गांव के किसान, महिलाएं, बच्चे आदि ने सक्रिय रूप से भाग लिया और स्वच्छता सेवा अभियान से सम्बंधित तीन पोस्टरो को स्कूल तथा अन्य क्षेत्रों की दीवारों पर लगाया गया। इस मिशन में गांव के लगभग 260 पुरुष, महिलाएं और बच्चों ने भाग लिया। प्रधान वैज्ञानिक डॉ० एस के शुक्ला के नेतृत्व में वैज्ञानिकों की एक टीम ने ग्राही, रहमानखेड़ाऔर घनश्यामपुर गांवों का दौरा किया और स्वच्छता के बारे में जागरूकता फैलायी। इस मिशन के अंतर्गत लगभग 75 लोगों को जागरूक किया गया।

भा.कृ.अनु.प.-केन्द्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान, लखनऊ के वैज्ञानिकों, अधिकारियों और कर्मचारियों ने 26.09.2018 को स्वच्छता ही सेवा 2018 के तहत सुबह की नियमित सफाई अभियान में सक्रिय रूप से भाग लिया। डॉ० वी के सिंह के नेतृत्व में मेरा गाँव मेरा गौरव कार्यक्रम के अन्तर्गत दो गाँव मोहिद्दीनपुर एवं सैदपुर महेरी के दो विद्यालयों के छात्र-छात्राओं तथा शिक्षकों में स्वच्छता के बारे में जागरूकता फैलायी। पहले सैदपुर महेरी(मोहिद्दीनपुर), काकोरी के प्राथमिक विद्यालय के छात्रों को एक जगह एकत्रित करके भारत सरकार द्वारा चलाया जा रहा स्वच्छता अभियान के बारे में अवगत कराया। डॉ० वी.के. सिंह व डॉ० के.के. श्रीवास्तव ने छात्रों को स्वच्छता की शपथ दिलाई और साथ में व्यक्तिगत एवं सार्वजनिक स्वच्छता बनाए रखने के बारे में बताया। छात्रों एवं शिक्षकों ने उत्साहपूर्वक विद्यालय प्रांगण में सफाई अभियान में भाग लिया। फिर वैज्ञानिकों ने सैदपुर महेरी गाँव के पूर्व माध्यमिक विद्यालय में जाकर भी छात्रों एवं शिक्षकों को स्वच्छता की शपथ दिलायी एवं विद्यालय प्रांगण में सफाई अभियान में भाग लिया। इस स्वच्छता अभियान में 78 लोगों ने भाग लिया और स्वच्छता सेवा अभियान से सम्बंधित पोस्टरो को स्कूल तथा आसपास के क्षेत्रों की दीवारों पर लगाया गया।

भा.कृ.अनु.प.-केन्द्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान, लखनऊ के वैज्ञानिकों, अधिकारियों और कर्मचारियों ने 27.09.2018 को स्वच्छता ही सेवा मिशन में सक्रिय रूप से भाग लिया और संस्थान के लॉन और आसपास के क्षेत्रों को साफ किया। संस्थान के फार्मर फर्स्ट परियोजना से संबंधित वैज्ञानिकों ने दिनांक 27.09.2018 को स्वर्ण जयंती मोंटेसरी स्कूल, नबी पानह, मालिहाबाद, लखनऊ में स्वच्छता ही सेवा दिवस कार्यक्रम का आयोजन किया। डॉ० मनीष मिश्रा के नेतृत्व में पांच वैज्ञानिक, तकनीकी और सहायक कर्मचारियों ने स्कूल के बच्चों के साथ सफाई अभियान का आयोजन किया। संस्थान के वैज्ञानिकों ने बच्चों के साथ बातचीत की और उन्हें व्यक्तिगत स्वच्छता, गांव स्वच्छता और अपशिष्ट प्रबंधन के बारे में सिखाया। बच्चो में स्वच्छता के बारे में जागरूकता का आकलन करने के लिए एक स्वच्छता प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया। जिसमे छात्रों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया। संस्थान की वैज्ञानिक समूह ने बायो-डीग्रेडेबल और गैर-बायोडिग्रेडेबल कचरे को इकट्ठा करने के तरीके के रूप को प्रदर्शित किया। इस मिशन में 114 लोगों को जागरूक किया गया।