City Montessori School Students study tour to ICAR-CISH, Lucknow

सिटी मोंटेसरी स्कूल के छात्रों का शैक्षिक भ्रमण

सिटी मोंटेसरी स्कूल, स्टेशन रोड, लखनऊ के 5 शिक्षकों के नेतृत्व में उच्च माध्यमिक के छात्रों (50) के एक समूह ने अपने अध्ययन कार्यक्रम के रूप में 8 मई 2018 को आईसीएआर-सीआईएसएच का दौरा किया। डॉ. वी.के सिंह, प्रधान वैज्ञानिक ने इस यात्रा का समन्वय किया और छात्रों को भारत में फल फसल विविधता की समृद्ध विरासत और आम और अमरूद जैसी अनिवार्य फसलों के लिए अपनाई गई जर्मप्लाज्म संरक्षण रणनीतियों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने छात्रों को संस्थान की अनुसंधान गतिविधियों के विषय में भी जानकारी दी। डॉ. मुथुकुमार, वैज्ञानिक ने संक्षेप में आमों के विशेष संदर्भ के साथ जीनोमिक्स और फल फसलों के आणविक प्रजनन की उपलब्धियों और संभावनाओं को वर्णित किया। डॉ. मुथुकुमार एम. और डॉ. इसरार अहमद ने जैव प्रौद्योगिकी प्रयोगशाला में उपकरणों और प्रयोगशाला सुविधाओं के बारे में छात्रों को समझाया एवं उन्हें बागवानी जैव प्रौद्योगिकी में भविष्य के अवसरों के बारे में भी बताया। बाद में उन्हें पीएफडीसी पॉली हाउस में भी ले जाया गया जहां उन्हें ऑफ-सीजन के तहत एवं प्रतिकूल परिस्थितियों में संरक्षित खेती में उच्च मूल्य वाली सब्जियों के उत्पादन के बारे में सिखाया गया।

A group of 50 students of higher secondary led by 5 teachers from City Montessori School, Station Road, Lucknow visited ICAR-CISH on 8th May 2018 as a part of their study tour programme. Dr. V.K. Singh, Principal Scientist coordinated the visit and enlightened the students about the rich heritage of fruit crop diversity in India and germplasm conservation strategies adopted for mandated crops like mango and guava. He also briefed the students about the facilities and on-going research activities of the Institute. Dr Muthukumar, Scientist (Biotech) briefly narrated accomplishments and prospects of genomics and molecular breeding of fruit crops with special reference to mango. Dr. Muthukumar. M. and Dr. Israr Ahmad explained the students about the instruments and laboratory facilities in Biotechnology Laboratory. They were also sensitized about the career opportunities in horticultural biotechnology. Later, they were also taken to PFDC poly house where they were taught about production of high value vegetables in protected cultivation under off-season or even at adverse conditions.